Alka lamba Smriti Irani

पंजाब में बस कुछ ही महीनों बाद विधानसभा चुनाव होने वाले हैं, उससे पहले बुधवार को फिरोजपुर के हुसैनीवाला की रैली में प्रधानमंत्री मोदी (PM Modi) के पहुंचने से रोकने के लिए रास्ते में बाधा खड़े करने का मुद्दा गरमा गया है. हालांकि हुआ क्या था इसकी जांच होना अभी बाकी है.

अब इस मुद्दे पर जमकर राजनीति हो रही है बीजेपी के तमाम नेता इसे कांग्रेस की साजिश बता रहे हैं और कांग्रेस की तरफ से भी बीजेपी पर जमकर पलटवार हो रहा है.

इस पूरे मामले पर बीजेपी नेत्री और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी (Smriti Irani) ने भी मीडिया में आकर बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि, अगर मोदी जी को ध्वस्त करना था तो चुनावों में करते, ये साज़िश रचने की क्या ज़रूरत थी?

स्मृति ईरानी के बयान पर पलटवार करते हुए कांग्रेस नेत्री अलका लांबा (Alka lamba) ने कहा है कि, कौन मारना चाहता है आख़िर प्रधानमंत्री मोदी जी को? आखिर उन्होंने ऐसा क्या कर दिया जो कोई उनकी जान का दुश्मन बन गया? वो भी देश के ही भीतर? या फिर संघ-भाजपा की यह एक और साजिश है एक दलित मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी जी को और पंजाब को बेवजह बदनाम करने की?

आपको बता दें कि इस पूरे मामले पर राजनीति अपने उफान पर है. बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) ने पंजाब सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि यह घटना प्रधानमंत्री मोदी की सुरक्षा में एक बहुत बड़ी चूक थी. यह बेहद चिंताजनक है. अपनी निकृष्ट सोच और ओछी हरकतों से पंजाब की कांग्रेस सरकार ने दिखाया है कि वह विकास विरोधी है और हमारे हमारे स्वतंत्रता सेनानियों के लिए भी उनके दिल में कोई सम्मान नहीं है.

बता दें कि इस पूरे मामले पर पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी (Charanjit Singh Channi) ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी. अपनी सरकार की ओर से सफाई भी दी. उन्होंने सबसे पहले तो इस बात पर खेद जताया कि प्रधानमंत्री मोदी रैली नहीं कर पाए और ऐसे ही लौट गए. उन्होंने कहा कि हम प्रधानमंत्री का पूरा सम्मान करते हैं. मैं खुद उनको रिसीव करने वाला था. लेकिन मेरे कुछ सहयोगी कोविड पॉजिटिव निकल आए इस वजह से मैं खुद प्रधानमंत्री को रिसीव करने नहीं जा सका, क्योंकि मैं उनके क्लोज कांटेक्ट में था.

रणदीप सिंह सुरजेवाला (Randeep Singh Surjewala) ने बीजेपी के आरोपों पर हमला बोला है. उन्होंने कहा है कि पंजाब के फिरोजपुर में पीएम मोदी की रैली में भीड़ नहीं आई तो सुरक्षा में चूक का बहाना बनाकर जनसभा को रद्द कर दिया गया. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री पद की गरिमा को धूमिल नहीं करना चाहिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here