Ashok Gehlot news

राजस्थान कांग्रेस के अंदर सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है. सचिन पायलट गुट और अशोक गहलोत गुट लंबे समय से आमने सामने हैं. लंबे समय से चर्चा चल रही है कि सचिन पायलट को राजस्थान का मुख्यमंत्री बनाया जा सकता है. यह उसी परिस्थिति में संभव है जब राजस्थान के मौजूदा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष का पद स्वीकार करें. इन सबके बीच अशोक गहलोत का बयान चर्चा का विषय बन गया है और तस्वीर कुछ हद तक साफ कर रहा है.

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने ताजा बयान में कहा है कि कांग्रेस वर्तमान में संकट के दौर से गुजर रही है और ऐसे वक्त में कांग्रेस उन्हें जो जिम्मेदारी देगी उसे वह पूरा करेंगे. आपको बता दें कि अशोक गहलोत का बयान ऐसे वक्त में आया है जब चर्चाओं का बाजार गर्म है कि अशोक गहलोत को राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया जा सकता है. पिछले महीने यह खबर आई थी कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने अशोक गहलोत से आग्रह किया था कि वह कांग्रेस अध्यक्ष पद संभाले.

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी अध्यक्ष का पद स्वीकार करने से इंकार कर चुके हैं. इन सबके बीच अशोक गहलोत ने एक न्यूज़ चैनल से बातचीत में कहा है कि उन्होंने कांग्रेस में कभी भी किसी भी पद के लिए लॉबिंग नहीं की है. उन्होंने कहा कि 3 बार राजस्थान के मुख्यमंत्री रहने के साथ ही एआईसीसी के महासचिव, प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष तथा तमाम पदों पर वह रहे हैं और कभी भी इसके लिए किसी तरह की लॉबिंग नहीं की.

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि हाईकमान ने उन पर कई बार भरोसा जताया है और संकट की घड़ी में यह उनकी जिम्मेदारी बनती है कि पार्टी जो आदेश देगी उसे वह पूरा करेंगे. आपको बता दें कि जब से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के कांग्रेस का अध्यक्ष बनने की चर्चाएं शुरू हुई है उसी वक्त से सचिन पायलट के समर्थकों में जबरदस्त उत्साह देखने को मिल रहा है. कुछ दिन पहले सचिन के जन्मदिन के मौके पर प्रदेश भर में उनके समर्थकों ने जश्न मनाया था.

राजस्थान में अगले साल विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. यह बात किसी से छिपी नहीं है कि सचिन पायलट राजस्थान का मुख्यमंत्री बनना चाहते हैं. वह अपनी इस मांग को अपने समर्थकों के जरिए कई बार कांग्रेस हाईकमान तक पहुंचा चुके हैं. अशोक गहलोत का ताजा बयान बताता है कि वह सोनिया गांधी और राहुल गांधी के अनुरोध को स्वीकार करेंगे और कांग्रेस के अगले अध्यक्ष बन सकते हैं. कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव के लिए 24 सितंबर से 30 सितंबर तक नामांकन भरे जाएंगे.

एक से ज्यादा उम्मीदवार होने की स्थिति में 17 अक्टूबर को वोटिंग होगी और 19 अक्टूबर को गिनती के साथ ही नतीजे घोषित किए जाएंगे. अगर राजस्थान के मौजूदा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष का पद स्वीकार करते हैं ऐसी परिस्थिति में सचिन पायलट राजस्थान के मुख्यमंत्री पद के सबसे उपयुक्त उम्मीदवार माने जा रहे हैं. कुछ दिन पहले राजस्थान के अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष खिलाड़ी लाल बैरवा ने भी सचिन पायलट को राजस्थान का मुख्यमंत्री बनाए जाने की सिफारिश की थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here