Altaf Surya Pratap Singh

उत्तर प्रदेश के कासगंज जिले के अल्ताफ़ (Altaf) की मौत पुलिस हिरासत में हुई है, जिसको लेकर काफी हंगामा मचा हुआ है. सोशल मीडिया पर उत्तर प्रदेश पुलिस को लेकर कई तरह के सवाल उठाए जा रहे हैं, इस मुद्दे पर राजनीति भी गरमा गई है.

दरअसल उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था को लेकर पिछले कुछ सालों से सवालिया निशान खड़े हो गए हैं. हिरासत में मौतें लगातार हो रही हैं और उसके बाद पुलिस द्वारा वही स्क्रिप्ट दोहरा दी जाती है कि मृतक ने आत्महत्या की है. पुलिस की इस स्क्रिप्ट पर कोई भी भरोसा करने के लिए तैयार नहीं है. मृत्यु होने के बाद मुआवजे की पेशकश की जाती है और मुआवजा दे दिया जाता है. बाद में न्याय उस तरह से देखने को नहीं मिला है जैसा कि होना चाहिए.

मुआवजा एक तरह से रिश्वत का रूप ले चुका है. मौतों के बाद सरकार की तरफ से जो मुआवजा दिया जा रहा है उस पर भी सवालिया निशान खड़े हो रहे हैं कि आखिर कानून व्यवस्था में सुधार कब होगा या फिर यूं ही पैसे देकर मामले को रफा-दफा किया जाता रहेगा.

अल्ताफ़ (Altaf) की मौत को लेकर पूर्व आईएएस सूर्य प्रताप सिंह (Surya Pratap Singh) ने भी ट्वीट किया है और अपनी बात रखी है. उन्होंने लिखा है कि, तुम गोरखपुर में चुप रहे, तुम आगरा में चुप रहे, तुम कासगंज में चुप हो, क्या अपने ज़िले का इंतज़ार कर रहे हो? क्या नफ़रत की यह आग तुम्हारे घर तक आ पहुँचेगी तब बोलोगे?

आपको बता दें कि मौजूदा दौर में हर मुद्दे पर राजनीतिक विचारधारा देखकर आवाज उठाने या फिर चुप रहने का चलन बढ़ता जा रहा है. अगर एक पक्ष की विचारधारा को नुकसान होना होता है या फिर फायदा तो लोग उसी को देखकर चुप रहते हैं या फिर बोलते हैं.

यह भी पढ़े- पुलिस हिरासत में मौत के मामले में Shyam Meera Singh ने अल्ताफ को लेकर किया ट्वीट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here