drugs

कच्छ भारत में मादक पदार्थों की तस्करी का प्रवेश द्वार बनता दिख रहा है. चाहे पिछले कुछ वर्षों से कच्छ के समंदर से तस्करी करके लाई गई है हेरोइन या कोकीन हो, बंदरगाह पर माल के साथ आने वाली ड्रग्स हो या फिर पाकिस्तान से भेजी गई है हेरोइन की बीच समुद्र में बरामदगी. कच्छ में विभिन्न तरीकों से मादक पदार्थों की तस्करी की अंतरराष्ट्रीय कोशिश हो रही है.

सोमवार को गुजरात के आतंकवाद निरोधी दस्ते ने मुंद्रा बंदरगाह पर तस्करी करके लाई गई करोड़ों रुपए की हेरोइन बरामद की. इस 75.3 किलोग्राम ड्रग्स की अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमत 376.5 करोड रुपए बताई जा रही है. गुजरात एटीएस के उपमहानिरीक्षक दीपन भद्रा को पंजाब पुलिस के अधिकारियों से जानकारी मिली थी कि मुंद्रा बंदरगाह पर पिछले डेढ़ 2 महीनों से संदिग्ध कंटेनर पड़ा हुआ है, जिसमें नशीले पदार्थ होने की आशंका है.

जानकारी की पुष्टि के बाद मुंद्रा के ऑल कार्गो सीएफएस पर गुजरात एटीएस की टीम ने छापेमारी की. वहां निजी सीएफएस में रखे गए कंटेनर की तलाशी से पता चला कि उसमें करीब 4000 किलोग्राम कपड़ा था, जिसे 540 रोल में लपेटा गया था. पुलिस ने कपड़े के रोल की गहन तलाशी ली तो 540 में से 64 रोल के अंदर 75.3 किलो ड्रग्स मिला.

एटीएस के अनुसार फॉरेंसिक साइंस लैबोरेट्री में इसकी जांच कराई गई तो पता चला कि यह हाई क्वालिटी हीरोइन है. अंतरराष्ट्रीय बाजार में इसका मूल्य करीब 376.5 करोड रुपए है. यह कंटेनर संयुक्त अरब अमीरात के अजमान फ्री जोन से ग्रीन फॉरेस्ट जनरल ट्रेडिंग कंपनी द्वारा भेजा गया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here