बंदूकों का सामना किया, चूहों से लड़ने से नहीं खाते खौफ- BJP का नाम लिए बगैर बोलीं ममता

0
mamta

बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने कहा है कि हमें जेल से डराने का प्रयास नहीं करें, हमने बंदूकों का सामना किया है और हम चूहों से लड़ने से नहीं डरते. दरअसल उनका बयान उस कार्रवाई को लेकर है जिसके तहत CBI उनके सांसद भतीजे अभिषेक बनर्जी पर शिकंजा कसने के लिए बंगाल जा पहुंची है. ममता ने कहा कि जब तक मेरे अंदर जान है, मैं किसी भी तरह की धमकी से नहीं डरूंगी.

बंगाल सीएम ने बीजेपी को चुनौती देते हुए कहा कि साल 2021 में केवल एक खेल होगा और उस मैच में मैं गोलकीपर होऊंगी और यह देखना चाहती हूं कि कौन जीतता है और कौन हारता है. उनका कहना था कि बीजेपी किसी मुगालते में न रहे. बंगाल के चुनाव में उन्हें एहसास हो जाएगा कि ममता बनर्जी का क्या कद है.

उन्होंने कहा कि बंगाल की जनता उनके साथ है. यही वजह है कि उनकी रैलियों में लाखों की तादाद में लोग उमड़ रहे हैं और बीजेपी को अपनी रथयात्रा के लिए भी लोग नहीं मिल रहे हैं.

ध्यान रहे कि सीबीआई ने अभिषेक बनर्जी की पत्नी रुजिरा बनर्जी के नाम का जो नोटिस दिया है उसमें एक फोन नंबर छोड़ा है और उस पर संपर्क करने के लिए कहा है. रविवार को सीबीआई की टीम को अभिषेक के घर कोई नहीं मिला, इसलिए पूछताछ नहीं हो पाई. सूत्रों के मुताबिक, सीबीआई की टीम घर पर ही पूछताछ करना चाहती है. इसे लेकर ममता और टीएमसी के नेता आगबबूला हैं.

सीबीआई की इस कार्रवाई पर तृणमूल कांग्रेस और बीजेपी ने एक-दूसरे पर निशाना साधा है. अभिषेक बनर्जी ने ट्वीट किया कि आज अपराह्न दो बजे, सीबीआई ने मेरी पत्नी के नाम एक नोटिस तामील किया. हमें देश के कानून पर पूरा भरोसा है. अगर वह सोचते हैं कि हमें डराने के लिए इन हथकंडों का इस्तेमाल कर सकते हैं तो वे गलत हैं. हम ऐसे लोग नहीं हैं, जो झुक जाएं. उसके बाद ममता ने अपने तीखे तेवर दिखाए.

सीबीआई रेड पर टीएमसी ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा कि उनके पास यह आखिरी हथियार बचा था. उधर, बीजेपी ने तृणमूल कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि वह मामले का राजनीतिकरण कर रही है. अभिषेक के खिलाफ जो चीजें सामने आई हैं, एजेंसी उनकी जांच कर रही है. बीजेपी का कहना था कि टीएमसी इसे बेवजह राजनीतिक मुद्दा बना रही है. कानून तो अपना काम करेगा ही.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here