पश्चिमी यूपी में एकजुट होने लगे हिंदू-मुसलिम

0
image

हजारों किसान राकेश टिकैत और दिल्ली के पास गाज़ीपुर की सीमा पर इकट्ठे हुए आंदोलनकारी किसानों से मिलने के लिए ट्रैक्टर लेकर चले गए हैं. 2013 के मुज़फ़्फ़रनगर दंगों के बाद, मेरठ, मुज़फ़्फ़रनगर और इन क्षेत्रों के अन्य पश्चिमी जिलों के किसान धार्मिक क्षेत्रों में ध्रुवीकृत हो गए थे और हिंदू हिंदुत्ववादी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के प्रबल समर्थक बन गए थे. अब ये वही हिंदू (और मुसलिम) किसान बीजेपी के कट्टर विरोधी और किसान आंदोलन के प्रबल समर्थक बन गए हैं. ये कैसे हुआ?

ब्रिटिश राजनीतिक दार्शनिक थॉमस हॉब्स (1588-1679) के विपरीत, जिन्होंने कहा था कि पुरुष मूल रूप से स्वभाव से बुरे होते हैं, रूसो का विचार था कि पुरुष मूल रूप से प्रकृति से अच्छे होते हैं. हालांकि, रूसो ने यह भी कहा था कि झूठे प्रचार से अल्पकाल तक अच्छे पुरुषों को बुरे पुरुषों में बदला जा सकता है. उदाहरण के लिए, जर्मनी के लोग बहुत अच्छे लोग है. लेकिन नाजी प्रचार द्वारा नाजी युग (1933-1945) के दौरान उनमें से कई यहूदियों से नफरत करने लगे और उन्होंने उन पर भयानक अत्याचार किए.

भारत में ‘बाँटो और राज करो’ की नीति और हमारे ब्रिटिश शासकों के झूठे प्रचार के कारण कई हिंदू और मुसलिम एक-दूसरे से नफरत करने लगे और उन्होंने एक दूसरे के खिलाफ भयानक कर्म किए. परन्तु जैसा कि रूसो ने बताया, यह घृणा लंबे समय तक नहीं चल सकती है और समय आएगा जब लोगों को पता चलेगा कि उन्हें बेवक़ूफ़ बना दिया गया था.

अब पश्चिमी यूपी के हिंदुओं और मुसलमानों को एहसास हो गया है कि उन्हें बेवक़ूफ़ बना दिया गया था कि वे एक-दूसरे के दुश्मन हैं. वहां के किसान, चाहे वह हिंदू हों या मुसलमान, को अपनी कृषि उपज के लिए पर्याप्त पारिश्रमिक नहीं मिलने की समस्या है और एकजुट होकर संघर्ष करने से ही उनकी मांग पूरी हो सकती है.

इसी तरह, भारतीय उपमहाद्वीप के लोग, जो 1947 में धार्मिक तर्ज पर बंटे हुए थे, अब धीरे-धीरे यह महसूस कर रहे हैं कि दो राष्ट्र का सिद्धांत फर्जी था. भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश में लोगों की भारी गरीबी, बड़े पैमाने पर बेरोजगारी, बाल कुपोषण के स्तर (ग्लोबल हंगर इंडेक्स देखें), जनता के लिए उचित स्वास्थ्य सेवा और अच्छी शिक्षा की कमी, भोजन और ईंधन के आसमान छूते दाम, आदि सब की समान समस्याएं हैं. इन का मुकाबला करने के लिए यह अपरिहार्य है कि एक दिन पुनर्मिलन होगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here