Vir Das

स्टैंडअप कॉमेडियन वीर दास (Vir Das) अमेरिका में अपने एक कार्यक्रम को लेकर खासा मुश्किल में फंस गए हैं. उन्होंने एक कविता सुनाई और उस कविता में भारतीय लोगों के दोहरे चरित्र को लेकर बातें कही गई थी. कुछ लोग उनकी बातों को भारत विरोधी बता रहे हैं.

उनकी कविता के विरोध में दिल्ली तथा मुंबई के अंदर शिकायत भी दर्ज कराई गई है. सोशल मीडिया पर भी कुछ लोग उनका बड़े स्तर पर तीखा विरोध कर रहे हैं. हालांकि वीर दास के समर्थन में भी बहुत से लोग हैं. उनका कहना है कि वीर दास ने कार्यक्रम में कुछ भी गलत नहीं कहा है.

उनकी कविता का विरोध होने के बाद वीर दास ने एक बयान भी जारी किया है, जिसमें उन्होंने सफाई दी है और कहा है कि “मैं दो भारत से आता हूं” कविता में उनका उद्देश्य देश का अपमान करना नहीं था. उनका इरादा बस इतना बताना था कि अपने ऐसे मुद्दों के बावजूद देश महान है.

जो सफाई उनकी तरफ से दी गई है उसमें कहा गया है कि उनके पूरे कार्यक्रम के एक हिस्से को काट कर उन पर निशाना साध रहे हैं कुछ लोग. आपको बता दें कि वीर दास ने सोमवार को यूट्यूब पर एक वीडियो अपलोड किया था. वीडियो का शीर्षक था “मैं दो भारत” से आता हूं. अपने 6 मिनट के वीडियो में वीर दास ने देश के कुछ लोगों के विरोधाभासी चरित्र के बारे में बताया है.

अपनी कविता में उन्होंने कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ाई, कॉमेडियन के खिलाफ कार्रवाई से लेकर किसानों के विरोध तक तथा बलात्कार तक का जिक्र किया है.

अपने वीडियो में वह कह रहे हैं कि- “मैं उस भारत से आता हूं, जहां हम दिन में औरतों की पूजा करते हैं और रात में गैंगरेप करते हैं…

मैं उस भारत से आता हूं, जहां हम वैजिटेरियन होने में गर्व महसूस करते हैं, लेकिन उन्हीं किसानों को कुचल देते हैं, जो ये वेजिटेबल उगाते हैं…

मैं उस भारत से आता हूं, जहां बच्चे मास्क लगा कर एक दूसरे से हाथ मिलाते हैं और मैं उस भारत से आता हूं जहां के नेता बिना मास्क लगाए गले मिलते हैं…

मैं उस भारत से आता हूं जहां हिंदू, मुसलिम, ईसाई, सिख, पारसी और यहूदी भी हैं और जब हम सभी आसमान में देखते हैं तो हम सभी को एक ही चीज दिखती है- पेट्रोल की क़ीमतें…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here