हरियाणा में बढ़ी हलचल

0
hindi/news/increased-stir-in-haryana

कांग्रेस हरियाणा विधानसभा में बीजेपी-जेजेपी गठबंधन सरकार के खिलाफ बुधवार को अविश्वास प्रस्ताव लाएगी. इस मद्देनजर पक्ष और विपक्ष दोनों ने अपने-अपने सदस्यों को सदन में अनिवार्य रूप से उपस्थित रहने के लिए विप जारी किया है.

हरियाणा सरकार के मंत्री और बीजेपी के मुख्य सचेतक कंवरपाल ने कहा, हरियाणा विधानसभा के बजट सत्र के दौरान भारतीय जनता विधायक दल के सभी सदस्यों से 10 मार्च को सदन में लगातार उपस्थित रहने का अनुरोध किया जाता है. विप जारी करते हुए कंवरपाल ने कहा, नेतृत्व की अनुमति के बिना वह सदन से बाहर न जाएं.

चर्चा के दौरान कई महत्वपूर्ण मामलों पर चर्चा होगी. सदस्यों से अनुरोध है कि वे मत विभाजन और मतदान के समय उपस्थित रहें. बीजेपी के सहयोगी दल जेजेपी ने भी अपने विधायकों को विप जारी किया है. कांग्रेस ने वरिष्ठ नेता और मुख्य सचेतक बीबी बत्रा ने कहा, कांग्रेस विधायक दल, हरियाणा के सदस्यों को सूचित किया जाता है कि सदन में सरकार के विरुद्ध 10 मार्च को अविश्वास प्रस्ताव लाया जाएगा.

बत्रा ने कहा, मैं विप जारी करता हूं कि आप अनिवार्य रूप से 10 मार्च को सुबह 10 बजे सदन में अपनी उपस्थिति सुनिश्चित करें और अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान का समर्थन करें. सदस्यों से अनुरोध है कि वे सीएलपी नेता से अनुमति लिए बिना सदन से बाहर न जाएं.

हरियाणा विधानसभा में 90 सीटें हैं और वर्तमान में 88 सदस्य हैं. उनमें से बीजेपी के 40, जेजेपी के 10 और कांग्रेस के 30 सदस्य हैं. 7 निर्दलीयों में से 5 सरकार को समर्थन दे रहे हैं. इसके अलावा एक सदस्य हरियाणा लोकहित पार्टी का है और वह भी सरकार के समर्थन में है.

टिकैत की अपील

हरियाणा की खट्टर सरकार के खिलाफ कांग्रेस के अविश्वास प्रस्ताव को लेकर सियासी हलचल तेज हो गई है. बुधवार (10 मार्च) विधानसभा में इसपर चर्चा होगी. उससे पहले भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने प्रदेश के विधायकों के अपील की है कि वे किसानों के समर्थन में खट्टर सरकार का साथ ना दें. टिकैत ने आम जनता से भी अपील की है कि वे अपने-अपने विधायकों से सरकार का साथ ना देने को कहें।.टिकैत ने कहा कि जो विधायक अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन करेंगे किसान उन्हें सम्मानित करेंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here