ईरान ने की पाकिस्तान में सर्जिकल स्ट्राइक

0
3384630667680

पड़ोसी देश पाकिस्तान में एक और सर्जिकल स्ट्राइक की खबर है. इस बार ये सर्जिकल स्ट्राइक ईरान ने की है. ईरान के रेवोल्यूशनरी गार्ड्स (IRGC) ने पाकिस्तान में आतंकियों के कब्जे से अपने 2 सैनिकों को मुक्त कराया है. ये सैनिक 2018 में किडनैप किये गए 12 सैनिकों में शामिल थे.

अनादोलू एजेंसी के मुताबिक, पाकिस्तान के भीतर खुफिया जानकारी के आधार पर इस ऑपरेशन को अंजाम दिया गया. IRGC के हवाले से कहा गया है, आतंकी संगठन जैश उल-अदल की ओर से बंधक बनाकर रखे गए बॉर्डर गार्ड्स के दो सैनिकों को बचाने के लिए मंगलवार रात एक सफल ऑपरेशन को अंजाम दिया गया, इन्हें ढाई साल पहले अगवा किया गया था.

मुक्त कराए गए दोनों सैनकिों को ईरान भेज दिया गया है. 16 अक्टूबर 2018 को जैश उल अदल संगठन ने IRGC के 12 गार्ड्स का अपहरण कर लिया था. इन्हें बलूचिस्तान प्रांत में रखा गया था. इसके बाद, दोनों देशों के सैन्य अधिकारियों ने एक जॉइंट कमिटी का गठन किया था. 12 में से 5 सैनिकों को नवंबर 2018 में रिहा करा लिया गया था.

इसके बाद 21 मार्च 2019 को पाकिस्तानी सेना ने 4 सैनिकों को मुक्त कराया था. जैश उल-अदल या जैश अल-अदल एक सलाफी जिहादी आतंकी संगठन है जो मुख्यतौर पर दक्षिणी-पूर्वी ईरान में सक्रिय है. यह आतंकवादी संगठन ईरान में नागरिक और सैन्य ठिकानों पर कई हमले कर चुका है.

जैश उल-अदल संगठन को तेहरान ने आतंकवादी संगठन घोषित किया हुआ है. यह आतंकवादी संगठन ईरान में नागरिक और सैन्य ठिकानों पर कई हमले कर चुका है. बलूचिस्तान में निर्दोष लोगों के नरसंहार के लिए इस आतंकी संगठन को पाकिस्तानी सेना से पूरा समर्थन मिलता है. इस संगठन ने ईरानी सरकार के खिलाफ युद्ध छेड़ रखा है और इसका कहना है कि वे ईरान में बलोच सुन्नी के अधिकारों की रक्षा कर रहा है.

ईरान तीसरा देश है, जिसने पाकिस्तान में सर्जिकल स्ट्राइक की है. ईरान से पहले अमेरिका ने 2 मई 2011 में पाकिस्तान के एबटाबाद में घुसकर अलकायदा सरगना लादेन को मारा था. इसके बाद भारत ने भी सितंबर 2016 में सर्जिकल स्ट्राइक की थी. 14 फरवरी 2019 को पुलवामा अटैक के बाद भी भारत ने इसी साल 26 फरवरी को बालाकोट में एयर स्ट्राइक की थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here