शिवसेना के साथ लंबी साझेदारी की तलाश में

0
shiv-sena-ncp

महाराष्ट्र में निकाय चुनाव की तैयारियां शुरू हो चुकी हैं. इन्हीं तैयारियों के बीच राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी ने बुधवार को पार्टी नेताओं के साथ बैठक की. इस मीटिंग में साफ किया गया है कि पार्टी शिवसेना के साथ लंबे समय तक राजनीति करने के लिए तैयार है.

गौरतलब है कि राकंपा की इस मीटिंग में बीते लोकसभा और विधानसभा चुनाव हारने वाले नेताओं को बुलाया गया था. इस मीटिंग को अजीत पवार और जयंत पाटिल समेत पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने संबोधित किया. अजीत पवार ने कहा, हम यह जानते हैं कि जब से महाविकास अघाड़ी सरकार का गठन हुआ है, तब से ही स्थानीय स्तर पर विवाद चल रहे हैं.

लेकिन हम शिवसेना के साथ लंबे समय तक रहेंगे. उन्होंने पार्टी के नेताओं से कहा, इसलिए इसी तरह से व्यवहार करें और विवादों को सुलझाएं. कई मुद्दों पर जारी मतभेद के बावजूद एमवीए सरकार ने एक साल पूरा कर लिया है. इस दौरान राकंपा ने भिवंडी-निजामपुर के डिप्टी मेयर इमरान अली मोहम्मद खान समेत कांग्रेस के 18 बागी कॉर्पोरेटर्स को पार्टी में शामिल कर लिया है. कांग्रेस के लिए इसे काफी बड़ा झटका माना जा रहा है.

गौरतलब है कि क्रॉस वोटिंग में इन बागी कॉर्पोरेटर्स ने कोनार्क विकास अघाड़ी की उम्मीदवार प्रतिभा पाटिल के समर्थन में वोट किया था. जिसकी वजह से कांग्रेस की हार हुई थी. पार्टी ने इन बागी नेताओं के खिलाफ पहले ही अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू कर दी है. कांग्रेस प्रवक्ता सचिन सावंत ने कहा कि ये नेता बागी हैं और इस मामले में जिला अध्यक्ष से रिपोर्ट मांगी है.

उन्होंने कहा, बीते साल हुए मेयर चुनाव में पार्टी उम्मीदवार के खिलाफ वोट डालने वाले ये सभी बागी नेता हैं. सावंत ने बताया, जिला अध्यक्ष ताहिर राशिद से मामले पर रिपोर्ट सौंपने के लिए कह दिया है. बता दें कि पांच बड़े म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन नवी मुंबई, औरंगाबाद, वसई-विरार, कल्याण-डोंबिवली और कोल्हापुर में अगले साल चुनाव होने हैं. इसके अलावा 2 जिला परिषद, 13 म्युनिसिपल काउंसिल और 83 नगर पंचायत में भी अगले साल चुनाव होंगे.

शिवसेना का प्रधान कार्यालय ‘राजनीतिक भूकंप’ का केंद्र बनेगा

इससे पहले शिवसेना के सांसद संजय राउत ने मंगलवार को कहा कि मुंबई में शिवसेना भवन भविष्य के ‘राजनीतिक भूकंप’ का केंद्र बनकर उभरेगा. उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र के लोग चाहते हैं शिवसेना अध्यक्ष और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे राज्य के साथ ही राष्ट्रीय राजनीति का भी हिस्सा बनें. राउत ने संवाददाताओं से कहा, हम पिछले कुछ दिनों से सुन रहे हैं कि उनकी पार्टी (भाजपा) एकजुट है और उनके कोई भी नेता बगावत नहीं करेंगे. कुछ दिन इंतजार कीजिए आपको पता चल जाएगा कि कौन पार्टी छोड़ रहा है.

राउत ने कहा कार्यकर्ता (शिवसेना में) आएंगे. लेकिन एक चीज ध्यान में रखिए कि शिवसेना भवन भविष्य के राजनीतिक भूकंप का केंद्र बनने जा रहा है. मध्य मुंबई के दादर में भाजपा के कुछ कार्यकर्ताओं के शिवसेना में शामिल होने के बाद राउत का यह बयान आया है. भाजपा के वरिष्ठ नेता देवेंद्र फडणवीस ने सोमवार को कथित तौर पर संकेत दिया था कि आगामी दिनों में दूसरे दलों के कार्यकर्ता भाजपा में शामिल होंगे.

राउत ने कहा कि महाराष्ट्र विकास आघाड़ी (एमवीए) के घटक शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस एकजुट हैं और सामंजस्य के साथ काम कर रहे हैं. शिवसेना के मुख्य प्रवक्ता ने कहा, राज्य के लोगों को लगता है कि एमवीए सरकार अगले चार-पांच साल नहीं बल्कि अगले 20 से 25 साल तक काम करेगी. उनका (लोगों) मानना है कि ठाकरे को राज्य के साथ ही देश की राजनीति में भी उतरना चाहिए …और यह होगा.

भाजपा पर कटाक्ष करते हुए राउत ने कहा कि रात्रिकालीन कर्फ्यू लगाने के राज्य सरकार के फैसले की आलोचना के लिए विपक्षी दल को ‘‘भारत रत्न’’ मिलना चाहिए. राउत ने कहा कि लोगों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए रात्रि कर्फ्यू लगाने का फैसला किया गया. उन्होंने भाजपा से दुनिया के घटनाक्रम से अवगत होने को भी कहा. राउत ने कहा, शायद भाजपा को पता नहीं है कि दुनिया में क्या चल रहा है क्योंकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पिछले कई महीने से विदेश नहीं गए हैं. उन्हें जानकारी जुटानी चाहिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here