ममता बनर्जी ने बड़ा पाशा फेंक दिया है

0
mamata-banerjee

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने चुनाव आयोग (EC) से कहा है बढ़ते कोरोना को देखते हुए बचे चार चरणों के चुनाव एक साथ करा लिए जाएं.

ममता बनर्जी का यह सुझाव ऐसे वक्त आया है, जब कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए बंगाल के चुनाव आयोग ने एक सर्वदलीय बैठक बुलाई है, जिसमें बाकी बचे चरणों के चुनाव को लेकर सभी पार्टियों की राय जानी जाएगी. हालांकि चुनाव आय़ोग (EC) ने पहले स्पष्ट कह दिया है कि बाकी चरणों के विधानसभा चुनाव को एक साथ कराना संभव नहीं है.

इस मामले को लेकर ऊहापोह उसने खत्म कर दिया है. तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी ने बंगाल में कोरोना के बढ़ते मामलों के लिए भी बीजेपी को जिम्मेदार ठहराया है. ममता बनर्जी ने गुरुवार शाम को ट्वीट कर कहा, महामारी को देखते हुए हमने चुनाव आयोग से विधानसभा चुनाव आठ चरणों में कराने का कड़ा विरोध किया था. अब जब बंगाल में कोरोना के मामले बेतहाशा तरीके से बढ़ रहे हैं तो चुनाव आयोग से यह गुजारिश है कि बाकी चरणों के चुनाव को एक साथ ही निपटा दिया जाए. यह लोगों को कोरोना के जोखिम से बचाएगा और संक्रमण को भी कम किया जा सकेगा.

बंगाल में चौथे चरण के चुनाव में हिंसा भी देखने को मिली थी, जिसमें 5 लोगों की मौत हो गई थी. तृणमूल कांग्रेस ने इसको लेकर चुनाव आयोग और सुरक्षा बलों पर ही आरोप लगाए थे. बता दे कि पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के दौरान रैलियों और रोड शो में कोविड नियमों का पालन न करने को लेकर तरह-तरह की अटकलें लगाई जा रही हैं.

कलकत्‍ता हाई कोर्ट ने भी दो दिन पहले सख्‍त रुख दिखाया था. तमाम तरह की चर्चाओं के बीच चुनाव आयोग ने गुरुवार को साफ कर दिया कि बंगाल में बचे हुए चुनाव एक साथ नहीं करवाए जाएंगे.

पश्चिम बंगाल के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) आरिज आफताब ने 16 अप्रैल को सर्वदलीय बैठक बुलायी है. इससे पहले कलकत्ता उच्च न्यायालय ने सीईओ और राज्य में सभी जिलाधिकारियों को चुनाव के बाकी चार चरणों में प्रचार के दौरान कोविड-19 के निर्देशों का पालन सुनिश्चित करने का निर्देश दिया था.

राज्य में सभी राजनीतिक दलों से बैठक के लिए केवल एक प्रतिनिधि भेजने को कहा गया है. बैठक में बाकी चार चरणों के लिए चुनाव प्रचार से संबंधित मुद्दों पर चर्चा की जाएगी. सामाजिक दूरी और कोविड-19 से जुड़े विभिन्न नियमों के पालन को लेकर चर्चा की जाएगी. कलकत्ता उच्च न्यायालय ने मंगलवार को निर्देश दिया था कि कोरोना वायरस के मामलों में बढ़ोतरी के मद्देनजर विधानसभा चुनाव के लिए राजनीतिक दलों के प्रचार के संबंध में स्वास्थ्य संबंधी सभी निर्देशों का कड़ाई से पालन होना चाहिए.

मुख्य न्यायाधीश टी बी एन राधाकृष्णन की पीठ ने दो जनहित याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए सभी जिलाधिकारियों को आदेश दिया था कि वे निर्वाचन आयोग और मुख्य निर्वाचन अधिकारी द्वारा जारी निर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here