ट्रैक्टर परेड में अभी भी पेंच?

0
tractor-rally

दिल्ली में कल यानी मंगलवार को किसानों की ट्रैक्टर परेड निकलेगी. आंदोलनरत अन्नदाता इस दौरान हजारों की संख्या में दिल्ली में कुछ किमी तक एंट्री लेंगे और ट्रैक्टरों से मार्च कर तीन कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध जाहिर करेंगे. इस आयोजन की पूर्व संध्या पर क्रांतिकारी किसान यूनियन के नेता दर्शन पाल ने ऐलान किया, हम एक फरवरी को संसद की ओर कूच करेंगे.

इस दिन कैसे कहां जाना है ये हम 28 जनवरी को तय करेंगे. बता दें कि इसी दिन संसद में केंद्रीय बजट पेश किया जाएगा. इसी बीच, स्वराज अभियान के योगेंद्र यादव ने बताया- मंगलवार को नौ जगहों से किसान गणतंत्र परेड निकलेगी. सिंघु बॉर्डर, टिकरी बॉर्डर, गाज़ीपुर बॉर्डर, धंसा बॉर्डर, चिल्ला बॉर्डर इसके अलावा चार और बॉर्डर हैं, जो कि हरियाणा बॉर्डर पर हैं. कल शाहजहांपुर से गणतंत्र परेड निकलेगा और यहां से 20-25 राज्यों की झांकियां निकलेगी. कल जो भी परेड होगा वो शांतिपूर्ण तरीके से होगी और इससे देश की गणतंत्र की इज्जत बढ़ेगी, घटेगी नहीं.

वहीं, किसान मज़दूर संघर्ष कमेटी के श्रवण सिंह पंढेर बोले, दिल्ली के आउटर रिंग रोड पर हम शांतिपूर्ण तरीके से ट्रैक्टर रैली करेंगे और रैली करने के बाद हम अपने स्थान पर वापस आ जाएंगे. हमारा आंदोलन 26 जनवरी के बाद भी चलेगा. मुंबई में सोमवार को किसान रैली में NCP चीफ शरद पवार ने कहा, ठंड में विभिन्न सूबों के किसान 60 दिन से आंदोलन कर रहे हैं. क्या पीएम ने उनका हाल-चाल जाना? क्या ये किसान पाकिस्तान से ताल्लुक रखते हैं?

यही नहीं, उन्होंने इस मसले पर महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी पर भी निशाना साधा. पूछा- आप राज्यपाल से मिलने जब राजभवन जाते हैं, पर वह नहीं मिलते. सूबे ने ऐसा राज्यपाल पहले कभी नहीं देखा. उनके पास कंगना से मिलने का वक्त है. पर किसानों के लिए समय नहीं है. उनका नैतिक दायित्व है कि वह यहां आकर किसानों से मिलें. दिल्ली में मंगलवार को होने वाली किसानों की ट्रैक्टर परेड से पहले पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने सोमवार को किसानों से शांतिपूर्ण रैली निकालने की अपील की.

किसान नेताओं ने कहा है कि वह गणतंत्र दिवस के अवसर पर ट्रैक्टर परेड निकालेंगे. दिल्ली पुलिस ने रविवार को कहा था कि किसानों की प्रस्तावित ट्रैक्टर परेड गणतंत्र दिवस समारोह का समय समाप्त होने के बाद शुरू होगी. सिंह ने किसानों की ट्रैक्टर परेड को भारतीय गणतंत्र और इसके संवैधानिक मूल्यों का उत्सव करार दिया है. मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर अपने संदेश में कहा, इन महीनों में आपका (किसान) आंदोलन शांतिपूर्ण रहा यही इसकी पहचान है और आने वाले दिनों में भी ऐसा ही होना चाहिए. राष्ट्रीय राजधानी में गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर रैली भी शांतिपूर्ण होनी चाहिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here