‘ग़ज़वा-ए-हिंद’ के सपने देख रहे शोएब अख्तर

0
Shoaib Akhtar

पाकिस्तान के पूर्व पेसर शोएब अख्तर ‘ग़ज़वा-ए-हिंद’ के सपने देख रहे हैं. उन्होंने कहा कि हम कश्मीर पर कब्जा करेंगे और उसके बाद भारत पर हमला करेंगे. शोएब अख्तर ने यह बातें समा टीवी को दिए एक इंटरव्यू में कही हैं. शोएब अख्तर के इस बयान का वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है.

हालांकि, यह पहला मौका नहीं हैं, जब किसी पाकिस्तानी क्रिकेटर ने कश्मीर और भारत के खिलाफ जहर उगला है. इससे पहले शाहिद अफरीदी, जावेद मियांदाद जैसे क्रिकेटर भी भारत के खिलाफ बोलते रहे हैं. समा टीवी के इंटरव्यू का यह वीडियो पुराना बताया जा रहा है, जिसमें शोएब अख्तर को ‘गजवा-ए-हिंद’ के बारे में बात करते हुए देखा और सुना जा सकता है. ‘ग़ज़वा-ए-हिंद’ का मतलब है- ‘भारत के खिलाफ पवित्र युद्ध’.

इस इंटरव्यू में शोएब अख्तर को कहते हुए सुना जा सकता है, हमारी पाक किताब में लिखा है कि ‘ग़ज़वा-ए-हिंद’ जगह लेगा और नदी दो बार खून से लाल रंग की होगी. अफगानिस्तान से सेना अटॉक तक पहुंचेगी. शमल मशरिक से उठने के बाद, उज्बेकिस्तान से अलग-अलग दल पहुंचेंगे. यह सब एक ऐतिहासिक क्षेत्र खोरासन को बताता है, जो लाहौर तक फैला हुआ था.

जब एंकर उनसे कहती है कि लोगों को यह पढ़ना चाहिए तो अख्तर कहते हैं, हां…. फिर वहां से शामल मशरिक निकलेंगी… तब आप वो कश्मीर फतह करेंगे. उसके बाद इंशाअल्लाह आगे चलेंगे. शोएब अख्तर का यह वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है और लोग उनकी इस सोच की आलोचना भी कर रहे हैं.

शमल मशरिक़ अरब प्रायद्वीप के उत्तर में स्थित एक क्षेत्र के लिए एक उर्दू संदर्भ है. ‘ग़ज़वा-ए-हिंद’ शब्द का इस्तेमाल पाकिस्तान में कट्टरपंथी इस्लामिक प्रचारकों और दशकों से पाक समर्थित आतंक संचालकों द्वारा किया जाता रहा है. बता दें कि शोएब अख्तर का विवादों से गहरा नाता रहा है. वह पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड और दूसरे क्रिकेटरों को लेकर भी अक्सर विवादित बयान देते रहते हैं.

हाल ही में शोएब अख्तर ने एक कार्यक्रम के दौरान कहा था कि उन्हें उनकी रफ्तार बढ़ाने के लिए कई बार ड्रग्स का इस्तेमाल करने के लिए मजबूर करने के प्रयास किए गए थे, लेकिन उन्होंने इससे इंकार कर दिया था. अख्तर ने कहा कि उन्हें बताया गया था कि अगर वे ड्रग्स का इस्तेमाल नहीं करेंगे तो वे तेज रफ्तार से गेंदबाजी नहीं कर पाएंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here