Parliament house

संसद भवन के परिसर में क्या अब धरना प्रदर्शन भी नहीं हो पाएगा? इससे जुड़ा एक आदेश शेयर करते हुए कांग्रेस ने मोदी सरकार को घेरा है. शेयर किए गए आदेश के मुताबिक संसद भवन के परिसर में कोई सदस्य धरना, हड़ताल, भूख हड़ताल नहीं कर सकेगा. इसके साथ-साथ कोई धार्मिक कार्यक्रम भी वहां नहीं आयोजित हो पाएगा. इस फैसले पर विपक्ष भड़क गया है.

शेयर किए गए आदेश में कहा गया है कि सभी सांसदों से इसके लिए सहयोग की अपेक्षा की जाती है. कांग्रेस के मीडिया विभाग के प्रभारी जयराम रमेश ने ट्वीट कर इस पर तंज किया है. उन्होंने कहा है कि यह विश्व गुरु की नई सलाह है. उन्होंने कहा है कि धरना (डरना) मना है.

आपको बता दें कि 18 जुलाई से संसद का मानसून सत्र शुरू हो रहा है और उससे ठीक पहले आए इस आदेश का जोरदार विरोध शुरू हो चुका है. गुरुवार को ही लोकसभा सचिवालय की ओर से जारी किए गए बुकलेट में कुछ शब्दों को असंसदीय करार दिया गया था. उस पर भी खासा हंगामा हुआ था. विपक्ष के कई नेताओं ने कहा था कि इन शब्दों का इस्तेमाल जरूर करेंगे.

इस मामले पर भारी विरोध के बाद लोकसभा के स्पीकर ओम बिड़ला ने स्पष्ट किया था कि सभी सदस्य अपने विचार व्यक्त करने के लिए स्वतंत्र हैं और संसद में किसी भी शब्द पर प्रतिबंध नहीं लगाया गया है. उन्होंने कहा था कि विचारों की अभिव्यक्ति संसद की मर्यादा के अनुसार होनी चाहिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here