Lal Krishna Advani indresh kumar

आरएसएस के नेता इंद्रेश कुमार अक्सर हिंदू मुस्लिम बयान बाजी करते रहते हैं और उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से ठीक पहले एक बार जिन्ना का जिन्न बाहर आ चुका है. जिन्ना को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तरफ से भी लगातार बयान बाजी की जा रही है.

इसी सिलसिले में आरएसएस के नेता इंद्रेश कुमार (Indresh kumar) ने भी एक बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि जिन्ना की तारीफ करने वाले “जिन्ना” के देश (पाकिस्तान) चले जाएं. आरएसएस के नेता इंद्रेश कुमार को याद ही होगा कि बीजेपी के फायर ब्रांड नेता रहे लालकृष्ण आडवाणी (Lal Krishna Advani) जब पाकिस्तान गए थे उस समय उन्होंने जिन्ना की मजार पर जाकर माथा टेका था और जिन्ना की तारीफ में कसीदे गढ़े थे. लालकृष्ण आडवाणी की काफी आलोचना भी हुई थी.

लालकृष्ण आडवाणी बीजेपी के फायरब्रांड नेता रहे हैं और राम मंदिर के मुद्दे पर राजनीति उन्होंने ही शुरू की थी और पूरे देश में रथयात्रा निकाली थी. इंद्रेश कुमार के बयान को अगर आधार मान लिया जाए तो सबसे पहले जिन्ना की मजार पर माथा टेक कर जिन्ना की तारीफ में कसीदे गढ़ने वाले लालकृष्ण आडवाणी को पाकिस्तान भेजना चाहिए.

क्या देश के मौजूदा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इंद्रेश कुमार के बयान से इत्तेफाक रखते हैं? अगर रखते हैं तो प्रधानमंत्री मोदी द्वारा सबसे पहले लालकृष्ण आडवाणी को पाकिस्तान भेज देना चाहिए. क्योंकि वह जिन्ना की मजार पर माथा टेकने और तारीफ करने के बाद भी कई सालों से भारत में रह रहे हैं.

और अगर प्रधानमंत्री मोदी इंद्रेश कुमार के बयान से इत्तेफाक नहीं रखते तो उन्हें बीजेपी और आरएसएस के नेताओं को संदेश देना चाहिए कि जनता के मुद्दों पर बात करें. ना कि गैर जरूरी मुद्दों को हवा देकर जनता के मुद्दों को दबाने का प्रयास करें.

यह भी पढ़े- Salman Khurshid के हिंदुत्व को लेकर कही गई बात मचा बवाल

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here